गवरी बाई (वागइ की मीरा), भक्त कवि दुर्लभ, संत राजाराम जी, संत खेताराम जी (gavari bai (vagai ki mira), bhakt kavi durlabh, sant rajaram ji, sant khetaram ji)

गवरी बाई ( वागइ की मीरा ) (gavari bai (vagai ki mira) राजस्थान के दक्षिणी वागड़ अंचल में सगुण कृष्ण भक्ति का अलख जगाने वाली भक्तिमती गवरी बाई का जन्म संवत् 1815 में डूंगरपुर के एक नागर ब्राह्मण परिवार में हुआ था । गवरी बाई को वागड़ की मीरा ‘ कहा जाता है । डूंगरपुर के …

Read moreगवरी बाई (वागइ की मीरा), भक्त कवि दुर्लभ, संत राजाराम जी, संत खेताराम जी (gavari bai (vagai ki mira), bhakt kavi durlabh, sant rajaram ji, sant khetaram ji)

हिन्दी साहित्य के निर्गुणोपासक भक्त कवियों में संत दादू के किस शिष्य का प्रमुख स्थान है?

[td_block_9 custom_title=”Rajasthan Gk Quiz” category_id=”2026″ sort=”random_posts” ajax_pagination=”next_prev”] . हिन्दी साहित्य के निर्गुणोपासक भक्त कवियों में संत दादू के किस शिष्य का प्रमुख स्थान है? Rajasthan Gk (राजस्थान सामान्य ज्ञान) से संबन्धित अन्य महत्वपूर्ण प्रश्न ☞ महाराणा कुंभा ने विजय स्तम्भ बनवाया- ☞ 1534 ई. में गुजरात के सुल्तान बहादुरशाह के चित्तौड़ पर आक्रमण के समय रानी …

Read moreहिन्दी साहित्य के निर्गुणोपासक भक्त कवियों में संत दादू के किस शिष्य का प्रमुख स्थान है?