कुम्भलगढ़ का दुर्ग (राजसमन्द), कुंभलगढ़ दुर्ग की विशेषताएं (kumbhalgadh ka durg (rajsamand), kumbhalgadh durg ki visheshatay)

कुम्भलगढ़ का दुर्ग (राजसमन्द) (kumbhalgadh ka durg (rajsamand) मेवाड़ के इतिहास ग्रंथ कविराजा श्यामलदास दघवाड़िया विरचित ‘ वीर विनोद ‘ के अनुसार महाराणा कुम्भा ने वि . संवत् 1505 ( 1448 ई . ) में कुम्भलगढ़ का दुर्ग या कुम्भलमेरू दुर्ग की नींव रखी । उपलब्ध ऐतिहासिक साक्ष्यों के अनुसार इस दुर्ग के निर्माण के लिए …

Read moreकुम्भलगढ़ का दुर्ग (राजसमन्द), कुंभलगढ़ दुर्ग की विशेषताएं (kumbhalgadh ka durg (rajsamand), kumbhalgadh durg ki visheshatay)

मेवाड़ के राणा कुम्भा, अलाउद्दीन खिलजी (mevaad ke raana kumbha, alauddeen khilajee)

मेवाड़ के राणा कुम्भा (mevaad ke raana kumbha) मेवाड़ के राणा कुम्भा यशस्वी शासक राणा कुम्भा के शासन काल ( 1433 – 1468 ई . ) में चित्तौड़ अपनी समृद्धि और कीर्ति की पराकाष्ठा पर पहुँचा कुम्भा एक महान निर्माता था । अपने राज्य की सुरक्षा के लिए उसने छोटे बड़े 32 किलों का निर्माण व …

Read moreमेवाड़ के राणा कुम्भा, अलाउद्दीन खिलजी (mevaad ke raana kumbha, alauddeen khilajee)

चित्तौड़ के शासक विक्रमादित्य, राणा सांगा, बहादुरशाह (chittaud ke shaasak vikramaadity, rana sanga, bahaadur shaah)

चित्तौड़ के शासक विक्रमादित्य (chittaud ke shaasak vikramaadity) उस समय चित्तौड़ के किले में लगभग आठ हजार राजपूत योद्धा राणा सांगा के साथ मुगल सेना का मुकाबला करने के लिए तैयार थे । एक खड़ी पहाड़ी पर बने चित्तौड़ के विशाल दुर्ग की घेराबन्दी करने में अकबर को लगभग एक माह का समय लगा । मोर्चे …

Read moreचित्तौड़ के शासक विक्रमादित्य, राणा सांगा, बहादुरशाह (chittaud ke shaasak vikramaadity, rana sanga, bahaadur shaah)

चित्तौड़ का वीर पत्ता, चित्तौड़ की स्थापत्य, चित्तौड़ के पोल (chittod ka veer patta, chittoor ki stapana, cittoor ke pol)

चित्तौड़ का वीर पत्ता (chittod ka veer patta) चित्तौड़ का वीर पत्ता किले के भीतर प्रवेश करती हुई शाही सेना के साथ दुर्धर्ष युद्ध करता हुआ रामपोल के भीतर अपने प्रमुख योद्धाओं सहित काम आया । मेवाड़ के प्रायः सभी संस्थानों ( ठिकानों ) के योद्धा शत्रु से लड़ते हुए काम आये । इस तरह 25 …

Read moreचित्तौड़ का वीर पत्ता, चित्तौड़ की स्थापत्य, चित्तौड़ के पोल (chittod ka veer patta, chittoor ki stapana, cittoor ke pol)

चित्तौड़गढ़ दुर्ग की विशेषताएं, सूर्य मन्दिर (chittorgard durg ki visheshtaye, surya mandir)

चित्तौड़गढ़ दुर्ग की विशेषताएं (chittorgard durg ki visheshtaye) इस दुर्ग का एक और बड़ा आकर्षण रानी पदमिनी के महल हैं । चित्तौड़गढ़ दुर्ग की विशेषताएं जो एक शान्त और खूबसूरत जलाशय पर स्थित हैं । ये महल वीरांगनाओं के आत्मोत्सर्ग की रोमांचक दास्तान के मूक साक्षी हैं । इन महलों से दक्षिण – पूर्व में दो …

Read moreचित्तौड़गढ़ दुर्ग की विशेषताएं, सूर्य मन्दिर (chittorgard durg ki visheshtaye, surya mandir)

राजस्थान के दुर्ग, भूमि दुर्ग की विशेषताएं, वीर अमरसिंह राठौड़ (rajasthan ke durg, bhumi durg ki visheshatay, veer amarsingh rathor)

भूमि दुर्ग की विशेषताएं (bhumi durg ki visheshatay) जैसलमेर का यह किला स्थापत्य की दृष्टि से भी उत्कृष्ट है । भूमि दुर्ग की विशेषताएं रेगिस्तान की रेत ( बाल ) से मिलते जुलते गहरे पीले पत्थरों से लगभग 842 वर्ष पहले 1155 ई . में निर्मित यह किला ऐसा विशाल और सुदृढ़ दुर्ग है जो बिना …

Read moreराजस्थान के दुर्ग, भूमि दुर्ग की विशेषताएं, वीर अमरसिंह राठौड़ (rajasthan ke durg, bhumi durg ki visheshatay, veer amarsingh rathor)

भूमि का दुर्ग एवं धान्वन का दुर्ग, सोनारगढ़ का दुर्ग (bhumi ka durg avm dhanvan ka durg, sonargad ka durg)

भूमि का दुर्ग एवं धान्वन का दुर्ग (bhumi ka durg avm dhanvan ka durg) राजस्थान में स्थल दुर्ग अनेक हैं । उत्तरी सीमा के प्रहरी ‘ और उत्तर भड़ किंवाड़ का विरुद्ध धारण करने वाले भाटी राजपूतों की वीरता , शौर्य और बलिदान का प्रतीक है जैसलमेर का किला । जैसलमेर री ख्यात के अनुसार विक्रम …

Read moreभूमि का दुर्ग एवं धान्वन का दुर्ग, सोनारगढ़ का दुर्ग (bhumi ka durg avm dhanvan ka durg, sonargad ka durg)

वन का दुर्ग, वन दुर्ग की विशेषताएं, अचलदास खींची री वचनिका (van ka durg, van durg ki visheshatay, achal daas kheenchee ri vachanika)

वन का दुर्ग (van ka durg) रणथम्भौर का प्रसिद्ध गिरिदुर्ग घने जंगल और विशाल वन्य सम्पदा से सम्पन्न होने के कारण वन का दुर्ग की विशेषताओं को भी चरितार्थ करता है । बयाना , तिमनगढ़ आदि के किले वन दुर्ग के लक्षणों से परिपूर्ण हैं । 1.राजस्थान के लोकगीत, घुड़ला गीत, चिरमी गीत, कागा गीत, लांगुरिया …

Read moreवन का दुर्ग, वन दुर्ग की विशेषताएं, अचलदास खींची री वचनिका (van ka durg, van durg ki visheshatay, achal daas kheenchee ri vachanika)

राजस्थान के प्रमुख दुर्ग, चित्तौड़ दुर्ग, बप्पा रावल (rajasthan ke parmukh durg, chittod durg, bappa raval)

चित्तौड़ दुर्ग (chittod durg) रानी पदमिनी , राजमाता कर्मवती , वीर गोरा – बादल , जयमल और । कल्ला राठौड़ व पत्ता सिसोदिया के अपूर्व पराक्रम और बलिदान का पावन स्थल चित्तौड़ का किला इतिहास में अपना कोई मुकाबला नहीं रखता । इसी कारण यह किला सब में सिरमौर माना जाता है । ‘ गढ़ तो …

Read moreराजस्थान के प्रमुख दुर्ग, चित्तौड़ दुर्ग, बप्पा रावल (rajasthan ke parmukh durg, chittod durg, bappa raval)

एरण दुर्ग, पारिख दुर्ग, पारिध दुर्ग, सैन्य दुर्ग, सहाय दुर्ग, औदक दुर्ग, गागरोण पर्वत दुर्ग, धान्वन दुर्ग (eran durg, paarikh durg, paaridh durg, senya durg, sahaay durg, odak durg, gaagron parvat durg, dhanvan durg)

एरण दुर्ग (eran durg) – वह एरण दुर्ग जिसके मार्ग खाई , कांटों तथा पत्थरों इत्यादि से दुर्गम निर्मित हों । 1.चित्तौड़ का दुर्ग, धान्व दुर्ग, मही दुर्ग, वाक्ष दुर्ग, वन दुर्ग (chitor ka durg, dhanva durg, mahi durg, jal durg, vakash durg, van durg) दुर्ग निर्माण की प्राचीन परम्परा (durg nirman ki prachin parmpra) दुर्ग …

Read moreएरण दुर्ग, पारिख दुर्ग, पारिध दुर्ग, सैन्य दुर्ग, सहाय दुर्ग, औदक दुर्ग, गागरोण पर्वत दुर्ग, धान्वन दुर्ग (eran durg, paarikh durg, paaridh durg, senya durg, sahaay durg, odak durg, gaagron parvat durg, dhanvan durg)