महाराणा उदयसिंह, महाराणा रत्नसिंह, महाराणा विक्रमादित्य (maharana udaysingh, maharana ratnsingh,) maharana vikramaditya)

Spread the love

महाराणा उदयसिंह (maharana udaysingh)(1540-1572 ई.)

महाराणा उदयसिंह
महाराणा उदयसिंह

1537 ई . में मेवाड़ के सरदारों ने कुम्भलगढ़ दुर्ग में महाराणा उदयसिंह का राज्याभिषेक करके महाराणा घोषित कर दिया ।

उदयसिंह ने सेना एकत्रित करके चित्तौड़ पर धावा बोला जिसमें बनवीर मारा गया तथा चित्तौड़ पर उदयसिंह का अधिकार हो गया । उदयसिंह के शासनकाल में 23 अक्टूबर , 1567 ई . को चित्तौड़ पर मुगल बादशाह अकबर द्वारा आक्रमण करने पर उदयसिंह , राठौड़ जयमल व रावत पत्ता को सेनाध्यक्ष नियुक्त कर कुछ सरदारों सहित जंगल में चले गये । मुगल सेना से युद्ध में जयमल व पत्ता ने प्राणाहुति दी तथा वीरांगनाओं ने अपनी आन – बान के लिए जौहर किया । यह चित्तौड़ का तीसरा साका ‘ ( 1567 ई . ) कहलाता है । अकबर ने जयमल व पत्ता की वीरता से प्रभावित होकर उनकी हाधियों पर चढ़ी हुई पत्थर की मूर्तियाँ बनाकर आगरे के किले के द्वार पर लगाई , जो वर्तमान में बीकानेर के जूनागढ़ किले के द्वार पर स्थित हैं ।

जयमल राठौड़ मेड़ता के शासक थे ।

– 28 फरवरी , 1572 ई . में गोगुन्दा में महाराणा उदयसिंह का देहान्त हो गया जहाँ उनकी समाधि बनाई गई ।

1.पश्चिमी राजस्थान गरीबी शमन परियोजना, सीमावर्ती क्षेत्र विकास कार्यक्रम (paschimi rajsthan garibi shaman priyojana, simavarti chetra vikas karyakram)


2.राजस्थान में रेल परिवहन (rajasthan me rel privahan)

महाराणा रत्नसिंह (maharana ratnsingh)(1528 – 1531 ई.)

० महाराणा सांगा की मृत्युपरांत 5 फरवरी , 1528 को महाराणा रत्नसिंह चितौड़ के सिंहासन पर बैठा लेकिन 1531 ई को बुंदी में उसकी मृत्यु हो गई

जिसके बाद उसका छोटा भाई विक्रमादित्य मेवाड़ का शासक बना ।

कंदरा सुधार कार्यक्रम, मरू विकास कार्यक्रम, मरू गोचर योजना (kandara sudhar karyakram, maru vikash karyakram, maru gochar yojana)

महाराणा विक्रमादित्य (maharana vikramaditya) (1531 – 1536 ई.)

विक्रमादित्य के शासनकाल में 1533 ई . में गुजरात सुल्तान देखना पड़ा । बहादुरशाह ने चित्तौड़ पर आक्रमण किया , लेकिन समझौता होने पर वापस लौट गया ।

लेकिन बहादुरशाह द्वारा पुन आक्रमण करने पर रानी कर्मवती ने हुँमायूँ से सहायता हेतु राखी भेजी ।

रानी कर्मवती ने विक्रमादित्य व उदयसिंह को बूंदी भेजकर देवलिया के रावत महाराणा का प्रतिनिधि बनाया ।

बहादुर शाह के विरुद्ध युद्ध में योद्धाओं ने केसरिया किया और हाड़ी रानी के नेतृत्व में वीरांगनाओं ने जौहर किया । यह ‘ चित्तौड़ का द्वितीय साका ‘ ( 1534 ई . ) कहलाता है । रानी कर्मवती का संदेश पाकर पहुँचे हुमायूँ ने तुरन्त बहादुरशाह पर आक्रमण करके उसे चित्तौड़ से भगा दिया तथा विक्रमादित्य को पुनः शासक बनाया । 1536 ई . में दासी पुत्र बनवीर ने विक्रमादित्य की हत्या कर दी । बनवीर उदयसिंह को मारना चाहता था लेकिन पन्नाधाय ने अपने पुत्र चंदन की बलि देकर उदयसिंह के प्राणों की रक्षा करके उसे सकुशल कुम्भलनेर के किलेदार ‘ आशा देवपुरा के पास पहुँचाया ।

1.क्षेत्रीय विकास कार्यक्रम, मगरा,डांग क्षेत्र, मेवात क्षेत्र, सीमावर्ती क्षेत्र विकास कार्यक्रम (chetriya vikash karyakram, magra, dang chetra, simavarti chetra vikash karyakram)


2.सहरिया एवं कथौड़ी जनजाति रोजगार योजना (sahriya avam kathodhi janjati rojagar yojana)


3.हमारी बेटी एक्सप्रेस, मुख्यमंत्री बीपीएल जीवन रक्षा कोष योजना (mukhyamantri bi.pi.al jivan raksha kosh yojana, hamari beti axpress)


Leave a Comment