महाराजा अभयसिंह, विजयसिंह, महाराजा मानसिंह (maharaja abhayasingh, vijayasingh, maharaja mansingh)

Spread the love

महाराजा अभयसिंह (maharaja abhayasingh)

महाराजा अभयसिंह
महाराजा अभयसिंह

अजीत सिंह के उत्तराधिकारी महाराजा अभयसिंह हुए जिनके शासनकाल में 1730 ई . में जोधपुर राज्य के खेजड़ली गाँव में अमृता देवी के नेतृत्व में वृक्षों की रक्षा हेतु 363 लोगों ने बलिदान दिया ।

यहाँ प्रतिवर्ष विश्व का एकमात्र वृक्ष मेला लगता है ।

अभयसिंह के पश्चात उसका पुत्र रामसिंह गद्दी पर बैठा लेकिन वह निकम्मा व अयोग्य था

इस कारण सरदारों ने उसके विरुद्ध विद्रोह करके पितृहन्ता बख्तसिंह को गद्दी पर बैठाया ।

बख्तसिंह की हत्या जयपुर नरेश माधोसिंह ने करवा दी ।

1.राजस्थान के जलप्रपात (rajasthan ke jalprapat)


2.राजस्थान में खारे पानी की झीले (rajasthan me khare pani ki jeele)

विजयसिंह (vijayasingh)

बख्तसिंह की मृत्यु के पश्चात् 1752 ई . में उसका पुत्र विजयसिंह जोधपुर को गद्दी पर बैठाया ।

रामसिंह की कारगुजारियों से परेशान होकर 1786 ई . में नागों और दादू पंथियों की सेना तैयार कर ली लेकिन इस सेना के कारण सारे सरदार बिगड़ गये और इकड़े होकर विजयसिंह के विरुद्ध लड़ाई की घोषणा करवा दी । विजयसिंह ने उस समय तो किसी प्रकार सरदारों को मना लिया किन्तु बाद में उन्हें धोखे से कैद कर अधिकांश की हत्या करवा दी

– विजयसिंह ने अपने राज्य में कसाई व कलालों का धंधा पूरी तरह से बंद करवा दिया ।

विजयसिंह ने जाट जाति की गुलाब राय को अपनी पासवान ( उपपत्नी ) बना ली ।

जिसका शासन के कार्यों में काफी दखल था ।

गुलाबराय की हत्या होने पर दुखी होकर विजयसिंह भी मर गये ।

विजयसिंह ने 1780 ई . में चाँदी का सिक्का चलाया जो विजयशाही रुपए के नाम से जाना गया ।


1.राजस्थान कि झीले, बालसमंद झील जोधपुर, उदय सागर झील उदयपुर (rajasthan ki jeele, balsamnd jeel jodhpur, uday sagar jeel udayapur)

2.नकी झील (सिरोही) (naki jeel (sirohi)

महाराजा मानसिंह (maharaja mansingh) ( 1803 – 1818 ई . )

1803 ई . में जोधपुर के सिंहासन पर उत्तराधिकारी संघर्ष के पश्चात् भीमसिंह की मृत्यु के उपरांत महाराजा मानसिंह ने कब्जा किया । अपने संघर्ष काल में जालोर में मारवाड़ की सेना से घिरे मानसिंह को नाथ सम्प्रदाय के आयस देवनाथ ने जोधपुर के शासक बनने की भविष्यवाणी कर आशीर्वाद दिया ।

जालोर के किले में मानसिंह को आहोर के निकट स्थित कोटड़ा ठिकाणे के जागीरदार जुगतीदान वणसूर ( चारण ) ने हरसम्भव मदद की । राजगद्दी प्राप्त होने के पश्चात् महाराजा मानसिंह ने जुगतीदान वणसूर को ‘ लाखपसाव ‘ सहित पारलू गाँव ( बाड़मेर ) की जागीर प्रदान करके कोटड़ा ( आहोर , जालोर ) में कोट ( लघु दुर्ग ) , महलात एवं विभिन्न मन्दिरों ( जलंधर नाथ , शीलेश्वर महादेव , ठाकुरजी , करणीमाता इत्यादि ) का निर्माण करवाया ।

1.फतेहसागर झील उदयपुर, पुष्कर झील अजमेर (phatehasagar jeel udaypur, puskar jeel ajmer)


2.राजस्थान की मीठे पानी की झीले (rajasthan ki mithe pani ki jeele)


3.रेगिस्तान की अनेक पशु नस्लें – ऊंट, अश्व (घोड़े ), गधे, खच्चर, सुअर, कुक्कुट(मुर्गी)पालन (registan ki anek pashu nasle – unth, ashve(gode), gadhe, khachar, suar, kukkuta(murgi)palan)


Leave a Comment