ज्योति योजना, ज्योति योजना के उद्देश्य, आशा सहयोगिनी, राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम, jyoti yojana, jyoti yojana ke udheshya, asha sahyogini, rastriya vector janit rog niyantran

Spread the love

ज्योति योजना, jyoti yojana

ज्योति योजना
ज्योति योजना

माननीय मुख्यमंत्री द्वारा वित्तीय वर्ष 2011- 12 से की गई बजट घोषणा के क्रम में केवल एक अथवा दो बालिकाओं के पश्चात श्वेता से परिवार कल्याण का स्थाई साजन नसबंदी ऑपरेशन अपनाने वाली महिलाओं को स्वास्थ्य सेवाएं स्वस्थ एवं शिक्षा और रोजगार के अवसरों में प्राथमिकता देने हेतु ज्योति योजना तैयार की गई हैं

परिवार कल्याण (नसबंदी) कार्यक्रम (privar kalyan (nashbandi) karyakram)

ज्योति योजना के उद्देश्य,jyoti yojana ke udheshya

ऐसी महिलाओं को रोल मॉडल के रूप में प्रचारित करना है जैसे छोटे परिवार की आदर्श अवधारणा वह बालिका के महत्व को बढ़ावा मिल सके

ज्योति योजना की पात्रता

1 अप्रैल 2011 के बाद एक या दो बालिकाओं पर नसबंदी कराने का लाभ देय प्राप्त हुआ

आयु सीमा 22 से 32 वर्ष तक

ज्योति योजना के लाभ

समाज में रोल मॉडल के रूप में प्रस्तुत किया जाना पात्र महिलाओं को राष्ट्रीय एवं स्थानीय समारोह में सम्मान मिलना शिक्षा के लिए सहायता प्रदान करना सरकारी अस्पतालों में नि:शुल्क चिकित्सा सेवा उपलब्ध करवाना

आशा सहयोगिनी, asha sahyogini

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के रूप में चयन हेतु

उचित पात्र महिलाओं को वरीयता प्रदान करना राजस्थान में सामाजिक क्षेत्र के विकास से संबंधित गतिविधियों में सौभाग्य प्राप्त करना अन्य राज्यों में लर्निंग विजिट में पात्र महिलाओं का समावेश दिलवाना

1.महिला शक्ति पुरस्कार (mahila shakti purskar)

राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम, rastriya vector janit rog niyantran

राजस्थान में मलेरिया एवं अन्य राष्ट्रीय मलेरिया रोग नियंत्रण हेतु राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम का संचालन किया जा रहा है

1.राष्ट्रीय क्षय नियंत्रण कार्यक्रम (rashtriya shay niyantran karyakarm)

2.राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण कार्यक्रम (rashtriya aids niyantran karyakarm)

राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम का उद्देश्य

सभी वैक्टर – जनित रोग -यता – मलेरिया , डेंगू , एंव चिकनगुनिया रोग पर नियंत्रण हैं

राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के लाभ

बुखार के सभी मरीजों के खून की जांच कराकर तथा पॉजिटिव आने पर मरीज को एंटी मलेरिया /एंटीवायरल दवा दी जाती हैं 4 दिन तक मलेरिया की पूरी खुराक द्वारा मरीज को दी जाने पर आशा को बतौर प्रोत्साहन राशि 50 दी जाते हैं राष्ट्रीय वेक्टर- जनित रोग की रोकथाम हेतु आईईसी गतिविधियों का संचालन तथा मच्छरों का प्रकोप कम करने हेतु

प्रभावी रोकथाम उपाय जैसे -कीटनाशक दवाओं की फोगिंग एवं जल स्रोत पर छिड़काव

राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम की पात्रता

संक्रमित बुखार ग्रस्त रोगी

1.नियमित टीकाकरण कार्यक्रम, राष्ट्रीय कुष्ठ रोग उन्मूलन कार्यक्रम (Niyamit tikakran karyakram, rashtriya kushth rog unmulan karyakram)

Leave a Comment