धनवन्तरि एंबुलेंस योजना 108, धनवन्तरि एंबुलेंस योजना के लाभ, कोरपस ग्रान्ट, dhanvantri ambulance yojana 108, korpas grants

Spread the love

 धनवन्तरि एंबुलेंस योजना 108, dhanvantri ambulance yojana 108

धनवन्तरि एंबुलेंस योजना '108'
धनवन्तरि एंबुलेंस योजना ‘108’

राजस्थान में ‘इमरजेंसी रिस्पांस प्रणाली’ स्थापित करने हेतु इस योजना का शुभारंभ प्रारंभ किया गया धनवन्तरि एंबुलेंस योजना ‘108’ की घोषणा बजट उदघोषणा – 2008- 2009 में ‘धनवन्तरि एंबुलेंस योजना ‘108’ के रूप में की गई थी इसे प्रारंभ में 5 एंबुलेंस के साथ शुरू किया गया था एवं वर्तमान में 649 एंबुलेंस राजस्थान के सभी 33 जिलों एवं 249 ब्लॉक /तहसील में कार्यरत हैं इस सेवा के अंतर्गत किसी भी फोन से 108 निःशुल्क टेलिफोन नंबर डायल करने पर समस्त चिकित्सा उपकरणों से सुसज्जित एंबुलेंस /20 मिनट (शहरी) / से 30 मिनट (ग्रामीण)/ और 40 मिनट (रेगिस्तानी) में रोगी के पास पहुंच सकते हैं

एवं 1 घंटे से कम समय में उसे अस्पताल पहुंचा उसका ट्रीटमेंट कर दिया जाता है

महिला एवं बाल विकास विभाग की योजनाएँ (mahiala avam bal vikash vibhag ki yojnay)

स्वावलंबन योजना (svavlamban yojna)

धनवन्तरि एंबुलेंस योजना के उद्देश्य

आपातकालीन स्थिति में रोगी तक तुरंत एंबुलेंस सेवा मुहैया करवाकर आपातकालीन चिकित्सा सुविधा प्रदान कर रोगी का जीवन बचाया जाता है

धनवन्तरि एंबुलेंस योजना के पात्रता

सभी आपातकालीन चिकित्सा सुविधा चाहने वाले रोगी

धनवन्तरि एंबुलेंस योजना के लाभ

इमरजेंसी स्थितियों /आपातकालीन अवस्थाओं मैं चिकित्सा सेवा प्रदान की जाती है गर्भवस्था तथा शिशु संबंधित किसी भी गंभीर सूचना को इमरजेंसी के रूप में तत्परता से लिया जाता है यह मुख्य रूप से गर्भवती महिलाओं एवं नवजात शिशुओं हेतु अस्पताल में इलाज के लिए निःशुल्क परिवहन सेवा है ताकि मातृत्व मृत्यु दर एवं शिशु मृत्यु दर को कम किया जा सके राजस्थान के 50 अति पिछड़े ब्लाक / विकासखण्ड में एक-एक अतिरिक्त एंबुलेंस बी प्रतिस्थापित की गई है
राजीव गांधी ग्रामीण चल चिकित्सा इकाई

कलेवा योजना, सामूहिक विवाह अनुदान योजना (kaleva yojna, samuhik vivah anudan yojna)

राजस्थान में आदिवासी, रेगिस्तानी एवं कई इलाके ऐसे हैं

जहाँ स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध नहीं है विशेषकर गरीब परिवारों महिलाओं एवं बच्चों की पहुंच से दूर उपस्थित इस समस्या को ध्यान में रखते हुए ‘राजीव गांधी ग्रामीण मेडिकल मोबाइल यूनिट कार्यक्रम’ राजस्थान में लागू किया गया वर्तमान में राजस्थान में 52 Mmu (Medical mobile unit) एवं 150 Mmv (medical mobile ven) प्रतिस्थापित है
राजस्थान में दूरस्थ क्षेत्रों तक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराना

आदिवासी एवं रेगिस्तानी क्षेत्र समुदाय विशेष कर महिलाओं एवं बच्चों तक स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध करवाना

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ (beti bchavo beti padhavo)

कोरपस ग्रान्ट, korpas grants

एन.आर.एच.एम के अंतर्गत विभिन्न संस्थाएं चिकित्सालय के आधारभूत शुद्धीकरण में रख रखाव हेतु एक और गारंटी (एक मुश्त राशि) मेडिकल रिलीफ सोसायटी ( आर. एम. आर. एस ) को आवंटित की जाती है

जिससे संस्था/ चिकित्सालय विशेष के स्वास्थ्य सुविधाओं की गुणवत्ता में वृद्धि की जा सकती है

सुकन्या समृद्धि योजना (suknya samrdhi yojna)

कोरपस ग्रान्ट योजना के उद्देश्य

राजकीय चिकित्सालय एवं स्वास्थ्य संस्थाओं का आधारभूत सुदृढ़ीकरण स्वच्छता, रख रखाव एवं गुणवत्तापूर्ण सेवाओं में वृद्धि करने हेतु वित्तीय सहयोग प्रदान करना

कोरपस ग्रान्ट योजना की पात्रता

राजकीय चिकित्सालय एवं स्वास्थ्य संस्था के लिए क्रियाशील राजस्थान मेडिकल रिलीफ सोसायटी (आर, एम ,आर, एस) के माध्यम से उपस्थित हैं

कोरपस ग्रान्ट योजना के लाभ

जिला अस्पताल हेतु 5 लाख प्रतिवर्ष उपस्थित उपजिला स्तरीय अस्पतालों , सेटेलाइट अस्पतालों हेतु 1लाख प्रतिवर्ष सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हेतु 1लाख प्रतिवर्ष स्थित

1.राजीव गांधी किशोरी बालिका सशक्तिकरण योजना (rajiv gandhi kishori balika sshaktikarn yojna)


2.राजस्थान के थार मरुस्थल की सबसे लंबी नदी – लूनी नदी(rajasthan ke thar marusthal ki sabse lambi nadi – luni nadi)


3.मध्यम काली मिट्टी(madhyam kali mitti), कछारी मिट्टी जलोढ़(kachhari mitti jalidh), भूरी मिट्टी(bhuri mitti)


Leave a Comment